FLASHINDIAMAHARAJGANJUTTAR PRADESH

*बुद्धम शरणम गच्छामि पुस्तक का हुआ विमोचन भगवान बुद्ध के विचार आज भी पूरी दुनिया में प्रासंगिक है प्रोफेसर पीके भारती*

विमोचन

बुद्धम शरणं गच्छामि पुस्तक का हुआ विमोचन। भगवान बुद्ध के विचार आज भी पूरी दुनिया में प्रासंगिक हैं- प्रो. पी. के.भारती

आशीष कुमार गौतम ब्यूरो चीफ पुलिस मुखबिर न्यूज

 

,

महराजगंज। भिटौली उपनगर के शिक्षण संस्थान के एक सभागार में एक कार्यक्रम आयोजित कर लेखक व कविराज रामेश्वर महाराजा द्वारा लिखित बुद्धम शरणं गच्छामि नामक पुस्तक का विमोचन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मदन मोहन मालवीय इंजीनियरिंग कॉलेज गोरखपुर के असिस्टेंट प्रोफेसर पी के भारती व भंते मोगलमाया जी ने कार्यक्रम की शुरुआत भगवान बुद्ध के चित्र पर दीप प्रज्ज्वलित व पुष्प अर्पित कर किया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि ने अपने संक्षिप्त संबोधन में कहा कि भगवान बुद्ध ने शांति का संदेश जो पूरी दुनिया को दिया उसे बहुत से देशों ने स्विकारते हुए बौद्ध धर्म को राष्ट्र धर्म घोषित कर दिया और उनके अनुयायियों की संख्या बढ़ती गई, इससे पता चलता है कि भगवान बुद्ध के विचार पूरी दुनिया के लिए आज भी प्रासंगिक हैं। उन्होंने कहा कि आज पूरी दुनिया में युद्ध जैसी हालात उत्पन्न हो गये है ऐसे समय में बुद्धम शरणं गच्छामि नामक यह पुस्तक लोगों को शांति का संदेश देगा। अंत में उन्होंने कहा कि हम लोगों के लिए बड़े गौरव की बात है कि महराजगंज की पवित्र धरती उनका ननिहाल रहा । ऐसी पवित्र धरती को मैं नमन करता हूं। विशिष्ट अतिथि सुरेन्द्र प्रसाद, भन्ते मोगलमाया जी, श्रवण पटेल, डा. एम. पी. बौद्ध, डा.एस. एस. पटेल, श्रीमती ॠतु मेश्राम आदि प्रवक्ताओं ने भी अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम का संचालन प्रा.शि.सं. के जिला मंत्री गोपाल पासवान ने किया। कार्यक्रम के अंत में पुस्तक के लेखक व कविराज रामेश्वर महाराजा ने सभी अतिथियों व आगंतुकों आभार प्रकट किया। इस अवसर पर सुरेन्द्र प्रसाद चौधरी, रामदास पटेल,शेषनाथ, सुदामा प्रसाद, तुलसी प्रसाद, रमेश कुमार, राजेंद्र प्रजापति, द्विग्विजय वर्मा , रविन्द्र शर्मा, संजीव कुमार, डा. राजेंद्र प्रसाद, अमरनाथ बौद्ध, डा. उदयभान, डा. शम्भू बौद्ध, रामचन्द्र बौद्ध, पतिराज नाथ जी, महेन्द्र यादव , रामसमुझ, अतुल कुमार, चिरंजीव कुमार, राजू भारती, सर्वेष कुमार, विशाल कुमार आदि गणमान्य लोग मौजूद रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button