FLASHMAHARAJGANJUTTAR PRADESH

डीएम ने हरी झंडी दिखाकर संचारी रोग नियंत्रण माह एवं दस्तक अभियान का किया शुभारम्भ

दस्तक अभियान का किया शुभारम्भ

डीएम ने हरी झंडी दिखाकर संचारी रोग नियंत्रण माह एवं दस्तक अभियान का किया शुभारम्भ

पीएम न्यूज सर्विस महराजगंज । संचारी रोग नियंत्रण माह एवं दस्तक अभियान का शुभारम्भ करते हुए जिलाधिकारी डॉ० उज्ज्वल कुमार व मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ० ए. के. श्रीवास्तव द्वारा प्रचार वाहन व सफाईकर्मियों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया।

संचारी रोग नियंत्रण अभियान व दस्तक अभियान पर आयोजित गोष्ठी को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि सभी आशा कार्यकत्री व स्वास्थ्यकर्मी संचारी रोग नियंत्रण व दस्तक पखवाड़े के दौरान लोगों को रोगमुक्त रखने हेतु पूरे मनोयोग से कार्य करें। अभियान के दौरान घर-घर जाकर लोगों को जे.ई.-ए.ई.एस., टी.बी. सहित विशेष रूप से चिन्हित चार बिंदुओं लोगों को जागरूक करें और समय से जांच व इलाज कराने के लिए प्रेरित करें।

उन्होंने कहा कि अभियान के दौरान कोविड, जे.ई.-ए.ई.एस., क्षय रोग के लक्षण वाले व्यक्तियों व कुपोषित बच्चों पर हमारा विशेष फोकस होना चाहिए। इस अभियान के दौरान यदि उक्त लक्षणों वाले व्यक्ति अथवा बच्चे मिलते हैं, तो संबंधित कर्मी उनकी सूची तैयार करें और पीड़ित व्यक्ति या बच्चे को समय से जांच और इलाज कराने हेतु प्रेरित करें।

जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद में कोविड रोकथाम की दिशा में काफी अच्छा काम हुआ है लेकिन अभी भी काफी कुछ किया जाना है और इसके लिए हो रहे कार्यों में और तेजी लाने की आवश्यकता है। उन्होनें अभियान में लगे लोगों से कहा कि लोगों को दूसरी डोज लगवाने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि संचारी रोगों के नियंत्रण के लिए अन्य विभाग भी लगाए गए हैं, जो अपने कार्यों को जिम्मेदारीपूर्वक करेंगे।

वेक्टर-बॉर्न डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम के नोडल अधिकारी और अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि संचारी रोग नियंत्रण माह 19 अक्टूबर से 17 नवम्बर तक चलेगा। सरकार द्वारा वर्ष 2025 तक टी.बी.उन्मूलन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस लक्ष्य की प्राप्ति हेतु इस अभियान के दौरान टी.बी. रोगियों को खोजने में विशेष रुचि दिखानी होगी। इसके साथ-साथ अभियान में लगे लोगों को अन्य निर्धारित बिंदुओं पर भी फोकस करना होगा। उन्होंने कहा कि हमे कोविड, जे.ई.-ए.ई.एस और टी.बी. के लक्षण वाले रोगियों को चिन्हित करने के साथ-साथ कुपोषित बच्चों पर भी विशेष ध्यान देना होगा।

कुपोषित बच्चों को चिन्हित करने के साथ ही उन्हें पोषण पुनर्वास केंद्र में भर्ती कराने का कार्य पूरी तत्परता के साथ करें।
उन्होंने संचारी रोगों से निपटने के तरीकों पर चर्चा करते हुए कहा कि स्वच्छ पेयजल का सेवन करना चाहिए। गंदगी से दूर रहें और स्वच्छ शौचालय का प्रयोग करें।

 

कार्यक्रम में सी.एम.एस डॉ. ए. के. राय, ए.सी.एम.ओ. राकेश कुमार, डिप्टी डी.टी.ओ. डॉ. राकेश श्रीवास्तव, सदर सी.एच.सी डॉ. के.पी सिंह, डॉ. ए. वी. त्रिपाठी, डी पी एम नीरज सिंह समेत अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button