FLASHLUCKNOWUTTAR PRADESH

कोरोना लॉकडाउन: मुख्यमंत्री योगी ने की व्यवस्था की समीक्षा

राजेश शुक्ला, प्रबंध सम्पादक

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कोरोना के कारण प्रदेश में जारी लॉकडाउन के दौरान व्यवस्थाओं की समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि नागरिकों को कहीं कोई भी परेशानी न होने पाये। मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान युद्ध स्तर पर व्यवस्थाएं की जायें। कालाबाजारी और जमाखोरी बिल्कुल भी न होने पाये। बैठक में अफसरों से कहा कि कहीं भी लोगो को कोई परेशानी न होने पाए।
दरअसल प्रदेश में लॉकडाउन की घोषणा के बाद डायल 112 पर कालाबाजारी की तमाम शिकायतें आई हैं। ऐसे मुख्यमंत्री आज अयोध्या से वापस आते ही मुख्य सचिव आरके तिवारी, अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश अवस्थी, पुलिस महानिदेशक हितेश चंद्र्र अवस्थी समेत शासन के कई वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की और पुख्ता व्यवस्था के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री शिकायतों की जांच के भी आदेश दिये हैं।
गौरतलब है कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मंगलवार रात 12 बजे से पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कल रात में ही प्रदेशवासियों को आश्वस्त किया था कि किसी को कोई परेशानी नहीं होने पायेगी। उन्होंने लोगों से कहा था कि सभी लोग प्रधानमंत्री की अपील का पालन करें, प्रदेश में दूध, सब्जी एवं अन्य आवश्यक वस्तुओं का पर्याप्त भंडार है।
इसके लिए बाहर न निकलें, बुधवार से सब कुछ लोगों के घर पर पहुंच  जाएगा। मुख्यमंत्री के इस निर्देश के क्रम में आज प्रदेश भर में आवश्यक सामग्री को घर-घर पहुंचाने की व्यवस्था की गई। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि इसके लिए प्रदेश भर में मोटर चलित 5419 वाहन और हाथ से चलने वाले 6704 ठेला आदि के माध्यम से आज लोगों तक आवश्यक सामग्री पहुंचाई गई।

पीजीआई पहुंचे मंत्री सुरेश खन्ना ने पूछा कोई कठिनाई तो नहीं, जवाब मिला बिल्कुल नहीं

चिकित्सा शिक्षा विभाग के मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने अपराह्न पीजीआई में कोरोना के क्रिटीकल केयर मैनेजमेंट में चल रहे प्रशिक्षण का जायजा लिया। वहां मिले डाक्टर सुजीत कुमार से मंत्री सुरेश खन्ना ने पूछा कोई कठिनाई तो नहीं, डाक्टर ने सवाल के जवाब में कहा बिल्कुल नहीं। मंत्री सुरेश खन्ना यही पर नहीं रुके, उन्होंने डाक्टर सुजीत से कई प्रश्न किये। उन्होंने पूछा कि कोरोना के मरीजों की क्या स्थिति है।
डाक्टर ने कहा, पहले से बेहतर है। मंत्री खन्ना ने अगले प्रश्न में डाक्टर और उनकी टीम का हाल जानना चाहा। उन्होंने पूछा कि आप लोग कितने दिनों से घर नहीं गये है। इस पर डाक्टर सुजीत ने कहा कि पिछले छह दिनों से हम सभी लगातार काम कर रहे है। वहीं मंत्री के एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि हम लोगों को बिल्कुल ही डर नहीं लग रहा है। इस दौरान मंत्री सुरेश खन्ना ने कुछ अन्य डाक्टरों से भी वार्ता की और पीजीआई के कोरोना वार्ड, इमरजेंसी का भी जायजा लिया।

उप्र शिया सेंट्रल वक्फ़ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी अस्पताल में भर्ती

उत्तर प्रदेश में मुसलमानों को कोरोना के प्रति जागरुक कर रहे उप्र शिया सेंट्रल वक्फ़ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी की तबियत बिगड़ गयी है। वसीम रिजवी को सांस लेने में तकलीफ होने पर चरक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उनके सैम्पल लेकर जांच के लिए केजीएमयू भेजा गया है।
वसीम रिजवी की हालत बिगडऩे की सूचना मिलते ही तमाम समर्थकों का चरक अस्पताल पर पहुंचना हुआ है। जिन्हें चिकित्सकों ने वापस कर दिया है।  रिजवी के पास केवल उनके परिवार के दो लोगों को ही रहने के लिए कहा गया है। वहीं रिजवी की तबियत और ज्यादा बिगडऩे पर उसे रेफर भी किया जा सकता है।

एयर इंडिया के कैन्सिल टिकटों के बदले यात्री 30 सितम्बर तक करा सकते हैं बुकिंग

राजधानी लखनऊ के चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट से कैन्सिल की गई एयर इंडिया की उड़ानों के बदले यात्री अब 30 सितम्बर तक मनचाही बुकिंग करा सकते हैं। एयर इंडिया के वरिष्ठ अधिकारी बीएस कौशल ने बताया कि लखनऊ सहित पूरे देश में 21 दिनों का लॉकडाउन चल रहा है। इसलिए जिन यात्रियों ने लखनऊ से एयर इंडिया के विमानों में टिकट बुक कराये हैं, वह अब 30 सितम्बर तक कैन्सिल टिकटों के बदले में मनचाही बुकिंग करा सकते हैं।
उन्होंने बताया कि एयर इंडिया के विमानों में यात्रियों से रि शेड्यूल टिकट का कोई शुल्क 30 सितम्बर तक नहीं लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि यात्री 30 सितम्बर तक एयर इंडिया के विमानों में यात्रा के लिए कोई भी तारीख चुनते हैं तो उनका पीएनआर नम्बर वही रहेगा। इसके अलावा अन्य विमानन कम्पनियां भी लॉकडाउन के चलते यात्रियों को ऐसे विकल्प देने जा रही हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button