भोजपुरी संगीत के क्षेत्र में क्षेत्र के लाल ने लहराया परचम

संघर्ष के बल पर गौरी शंकर देहाती ने पायी सफलता

शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर। विकास खण्ड बढ़नी के ग्राम पंचायत बसहिंया के टोला खैरा, महदेइया निवासी 26 वर्षीय गौरी शंकर यादव ने भोजपुरी संगीत के क्षेत्र में अपना परचम लहराकर अपने माता-पिता सहित क्षेत्र का नाम रोशन किया है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक महदेइया निवासी द्वारिका प्रसाद यादव के पौत्र और राम लल्लन यादव के बड़े पुत्र 26 वर्षीय गौरी शंकर यादव बचपन से ही संगीत प्रेमी थे। उन्हें गाने का बहुत शौक था। पांच भाई-बहनोंं में गौरी शंकर बहनोंं से छोटे व भाईयों में बड़े थे। कम उम्र में ही उनका विवाह हो गया और वे जल्दी ही दो बच्चों के पिता भी बन गये। गौरी शंकर बिजली विभाग में संविदाकर्मी व नेटवर्किंग टावर में काम कर अपने परिवार का भरण-पोषण करते थे, मगर इन कामों में उनका मन कतई नहीं लगता था। वो तो संगीत के दीवाने थे और गायक बनना चाहते थे। उनके संगीत प्रेम और गायन के चक्कर में उनकी बीबी झगड़कर अबकी होली के हफ्ते भर पहले उनका घर छोड़कर बच्चोंं को लेकर अपने मायके चली गयी। बीबी ने अपने मायके जाते समय साफ बोल दिया था कि जब तुम गाने-वाने का चक्कर छोड़ोगे तभी वापस आऊंगी, नहीं तो नहीं आऊंगी। बीबी का बच्चोंं को लेकर इस तरह मायके जाने से गौरी शंकर मन काम में नहीं लगता था और वे अक्सर उदास रहनेे लगे। उदासी के हालत मेें ही वे होली के 15 दिन पहले अपनी कमाई का ₹10000 लेकर बिहार के थावे गोपालगंज चले गये और जहां कान्हा म्यूजिक के राइटर रविंद्र कुमार विद्यार्थी से उनकी मुलाकात हुई। फिर रविंद्र कुमार विद्यार्थी ने उनकी मुलाकात कान्हा म्यूजिकल कंपनी के मालिक आर्यन गुप्ता से करायी। आर्यन गप्ता ने उनका गाना सुना और गाने को लांचिंग करने के नाम पर उनसे ₹10000 लिया। धोखेबाज आर्यन गुप्ता ने सीधे-साधे गौरी शंकर से पैसे तो ठग लिए और गाना भी लांच नहीं करवाया। इतना सबकुछ होने के बाद गौरी शंकर बहुत निराश व हताश होकर इधर-उधर भटक रहे थे कि तभी उनकी मुलाकात प्रजापति रिकॉर्डिंग स्टूडियो के मालिक पिंटू परवाना से एक होटल में हुई। उन्होंने उनका दुख दर्द सुनकर खाना खिलाया और अपने स्टूडियो में ले जाकर उनका गाना सुना और गाने को लांच भी किया। इसी दौरान स्टूडियो में उनकी मुलाकात अक्षय कुमार राज जो आडियो-वीडियो एल्बम व भोजपुरी फिल्मों शूटिंग करवाते थे, से हुई और वे उनको वीडियो गाने के एलबम की शूटिंग करवाने दिल्ली लेकर गए। वहां वे जय अम्बे फार्म हाउस पर उनकी महिला एक्टर रानी, प्रियंका व सोनी आदि के साथ भोजपुरी वीडियो गाना शूटकर एलबम रिलीज कराये। एलबम शूटिंग के दौरान पी.कृष्णा जो दिल्ली स्टूडियो के मैनेजर है, ने उनका बहुत सपोर्ट किया और वहां हर कदम पर उनकी मदद भी किया। अब तक भोजपुरी गायक गौरी शंकर के भोजपुरी के रोमांटिक व भक्ति गीतों “दिल लगावे से पाहिले”, “चुसे द लालिया”, “भागल बिया दोसरा के लेके”, “रूसल बा कलिहि से”, “टूटे कमरिया मोर”, “हैवे सिद्धार्थ नगर जीजा रे”, “मूर्ति रखाई तोहर पंडाल सजावे ल”, “थावे नगरिया”, “झूला झुलेली मैया” सहित तमाम गानोंं के आडियो/विडिओ एलबम रिलीज हो चुके हैं जो यूट्यूब और गूगल पर “गौरी शंकर देहाती” के नाम से खूब धूम मचा रहें हैं। गौरी शंकर यादव के आडियो/विडिओ गाने के एलबम को लोगों का भरपूर सहयोग व प्यार भी मिल रहा है, जिससे उनके फैन फलोअरों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। वहीं संवाददाता से बातचीत के दौरान गौरी शंकर यादव ने अपनी सफलता का श्रेय ईश्वर के साथ अपने परिजनों व शुभचिंतकों को दिया है। ग्राम प्रधान राजेन्द्र यादव सहित क्षेत्रीय लोगों ने गौरीशंकर यादव उर्फ गौरी शंकर देहाती के उज्जवल भविष्य की कामना किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.