संतकबीरनगर -जूता कांड सांसद शरद त्रिपाठी जी का टिकट कटा तो कौन हो सकता है उम्मीदवार

*संतकबीरनगर से*
*अमित प्रताप मिश्र की*
*रिपोर्ट*

*संतकबीरनगर- बीते दिनों कलेक्ट्रेट सभागार में बीजेपी विधायक और सांसद के बीच हुए जूतमपैजार की घटना* से शर्मसार हुई बीजेपी दोनो पर किस तरह की अनुशासनात्मक कार्यवाई को अंजाम देगा इसपर सभी की निगाहें टिकी हुई है। विदित हो कि कलेक्ट्रेट सभागार में सांसद शरद त्रिपाठी और एमएलए राकेश सिंह बघेल के बीच हुए जूतमपैजार की घटना जहां देश विदेश के प्रचलित मीडिया की सुर्खियां रही वहीं सोशल मीडिया पर भी लोगों ने इसको लेकर खूब मज़ाक उड़ाया, किसी ने कार्टून के जरिये बीजेपी का उपहार उड़ाया तो किसी ने व्यंग कसते हुए बीजेपी का जमकर मजाक उड़ाया, खैर जूतमपैजार की घटना के बाद लोगों को अब इंतज़ार है उस अनुशासनात्मक कार्यवाई का जिसके तहत दोनो पर कार्यवाई होने की प्रतीक्षा लोगों के साथ प्रमुख विपक्षी पार्टियां कर रही है। हालांकि पूरे मामले को लेकर बीते दिनों सोशल मीडिया एवं एक निजी टीवी चैनल पर यह दावा किया भी किया जा चुका है कि *सांसद शरद त्रिपाठी* का टिकट काट दिया गया और *विधायक राकेश के खिलाफ निलंबन की कार्यवाई हो चुकी है* पर इसकी पुष्टि अभी तक पार्टी आलाकमान ने नही की है लेकिन ऐसा संकेत जरूर मिल रहे है कि पूरे मामले पर कुछ न कुछ कार्यवाई होकर रहेगी। अब ये कार्यवाई किस तरह होगी? इसपर भी लोग माथापच्ची कर रहे है, राजनीति के जानकारों का ऐसा मानना है कि यदि *सांसद शरद त्रिपाठी को टिकट मिल भी गया तो वो चुनाव जीत नही पाएंगे क्योंकि क्षत्रिय वर्ग के वोटरों में उनके खिलाफ काफी गुस्सा है*। यूपी की सभी सीटों पर जोरदार मुकाबले को देख बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व ये कत्तई नही चाहेगा कि उसकी एक भी सीट कम न हो अतः ऐसे हालात में *सांसद शरद त्रिपाठी का टिकट कटना फिलहाल तय माना जा रहा है*। अब सोंचने वाली बात यह है कि यदि मौजूदा *सांसद शरद त्रिपाठी का टिकट कटा तो दावेदार और कौन हो सकता है*?? गठबंधन से मुकाबले के लिए वो कौन से ऐसे चेहरे जिले में है जो मजबूती के साथ गठबंधन का मुकाबला कर सकते है इसको लेकर *लोक सामना टीवी न्यूज चैनल* ने जनता के मूड को जानने की कोशिश की। *पांच विधानसभाओ वाले संसदीय क्षेत्र संतकबीरनगर* के तीन विधान सभा क्षेत्र में रहने वाले प्रबुद्ध वर्ग के लोगो से बातचीत के अलावा किसान, नौजवान, गरीब मजदूर वर्ग के लोगो से भी हमारे संवाददाता *अमित प्रताप मिश्र*
और *राकेश द्विवेदी* ने बातचीत की जिसमे यह नतीजे निकल कर सामने आये कि *गठबंधन के प्रत्याशी को हराने की कूबत रखने वाले ऐसे तीन चेहरे है* जो भाजपा को यहां से विजयी बना सकते है, आइये जानते हैं उन तीन चेहरों के बारे में……..

मजबूत दावेदार होंगे *सदर विधायक जय चौबे* एवं पूर्व ब्लॉक प्रमुख नाथनगर *राकेश चतुर्वेदी*…..

बीजेपी यदि *सांसद शरद त्रिपाठी का टिकट काटती है* तब निश्चित तौर पर प्रमुख दावेदार के रूप में लोगो के मन मे जो चेहरा सामने आया उनमें *सदर विधायक दिग्विजय नरायण उर्फ जय चौबे* जिनके पास मजबूत कार्यकर्ताओं की एक बड़ी फौज है जिनके बल पर उन्होंने विषम परिस्थितियों में भी चुनाव लड़ते हुए *विधान सभा का चुनाव शानदार तरीके से जीता था*, चुनाव जीतने के बाद लगातार क्षेत्र में बने रहने वाले सदर विधायक जय चौबे फिलहाल *टिकट की रेस में सबसे आगे नजऱ* आ रहे हैं जबकि *दूसरे दावेदार के रूप में* बस्ती संसदीय सीट से अपनी दावेदारी करने वाले *जिले के नाथनगर ब्लॉक के पूर्व ब्लॉक प्रमुख राकेश चतुर्वेदी* का नाम प्रमुखता से सामने आ रहा है, *पूर्व प्रमुख के पास भी हजारों युवाओं की शक्ति है जो किसी भी परिस्थिति में माहौल को बदल देने की कूबत रखतें है*।

बनते बिगड़ते राजनैतिक समीकरण के बीच *पूर्व सांसद भालचंद यादव भी* हैं टिकट की रेस में

*तीसरे चेहरे के रूप में जो नाम सामने आया वो नाम हैं पूर्व सांसद भालचंद यादव* जो गठबंधन से टिकट न मिलने से नाराज़ चल रहे है *और किसी भी वक्त अपना पाला बदलकर बीजेपी से नाता जोड़ सकते है*। यदि *पूर्व सांसद भालचंद यादव बीजेपी जॉइन करते है तब बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व जातीय समीकरण को साधने के लिए उनपर दांव खेल सकता है* क्योंकि पूर्व सांसद पिछड़ी जाति के है और जिले की जनता में उनका एक अलग ही क्रेज है। *हाल फिलहाल की सम्भावनाओ को यदि दरकिनार कर के देखा जाए और यह कल्पना किया जाय कि यदि बीजेपी पूर्व सांसद भालचंद को पार्टी में नही शामिल करती हैं* या उन्हें टिकट नही देती है तो इस सीट के लिए उपरोक्त *दोनो दावेदारों पर बीजेपी दांव जरूर खेल सकती है* क्योंकि पार्टी जिताऊ उम्मीदवार चाहती है, ऐसे में एक विकल्प के रूप में *जिन दोनो नामो पर लोगो ने चर्चा की उनमें सदर विधायक जय चौबे और पूर्व ब्लॉक प्रमुख राकेश चतुर्वेदी का नाम प्रमुखता से सामने आया है*।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.