*संतकबीरनगर से*
*अमित प्रताप मिश्र की*
*रिपोर्ट*

टी.बी. मरीज की जानकारी देने वाले प्राइवेट चिकित्‍सक को मिलेंगे एक हजार

 

●    प्राइवेट इलाज करने वाले मरीजों को भी मिल रहा है पोषण भत्‍ता…

●    क्षय रोग अधिकारी ने प्राइवेट चिकित्‍सकों से मांगा सहयोग….

अगर कोई प्राइवेट चिकित्‍सक किसी टी.बी के मरीज का इलाज कर रहा है। साथ ही यह जानकारी वह जिला क्षय रोग कार्यालय को देता है तो उसे भी प्रोत्‍साहन राशि के रुप में एक हजार रुपए दिए जाएंगे। वहीं मरीजों को 500 रुपया प्रतिमाह पोषण भत्‍ता भी मिलेगा। जिला क्षयरोग अधिकारी ने इस मामले में प्राइवेट चिकित्‍सकों का सहयोग मांगा है देश को 2025 तक टीबी जैसे संक्रामक रोग से मुक्‍त कराने के लिए भारत सरकार के द्वारा चलाए जा रहे व्‍यापक कार्यक्रमों की श्रृंखला में अब टी.बी. का प्राइवेट इलाज करने वाले चिकित्‍सकों के लिए भी प्रोत्‍साहन राशि देने की योजना बनाई गई है। इस योजना के तहत पहले प्राइवेट इलाज कराने वाले टी.बी. के मरीजों को पोषण भत्‍ता के रुप में 500 रुपए प्रतिमाह देने की योजना बनाई गई थी। लेकिन प्राइवेट चिकित्‍सक इस योजना को लेकर उदासीन दिख रहे थे और वे मरीजो की जानकारी देने में सहयोग नहीं कर रहे थे। लेकिन अब सरकार ने ऐसे प्राइवेट चिकित्‍सकों को भी 1000 रुपये प्रति मरीज के हिसाब से प्रोत्‍साहन भत्‍ता देने का निर्णय लिया है। प्राइवेट चिकित्‍सक जिस मरीज का टीबी का इलाज कर रहे हैं वे उसका आधारकार्ड , फोटो और बैंक खाता नम्‍बर अगर जिला क्षय रोग अधिकारी के यहां देते हैं तो उन्‍हें भी 1000 रुपये प्रोत्‍साहन भत्‍ता दिया जाएगा।

मरीजों को मिलता है पोषण भत्‍ता

जिस भी मरीज का टी.बी. का इलाज चल रहा है उसे प्रतिमाह 500 रुपये पोषण भत्‍ता के रुप में दिया जाता है। चाहे वह भारत सरकार के डाट्स सेण्‍टर पर इलाज करा रहा हो, या‍ फिर किसी प्राइवेट चिकित्‍सक के यहां इलाज करा रहा हो। यह इसलिए दिया जाता है ताकि वह इलाज के साथ ही पोषक आहार भी ले और उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बनी रहे। ‘कोई भी प्राइवेट चिकित्‍सक किसी भी मरीज का टी. बी. का इलाज कर रहा है तो वह इसकी जानकारी जिला क्षयरोग अधिकारी को दे। जिला क्षय रोग कार्यालय से उस चिकित्‍सक को एक हजार रुपये प्रति मरीज के हिसाब से प्रोत्‍साहन राशि दी जाएगी। साथ ही मरीज को हर महीने 500 रुपये पोषण भत्‍ता भी दिया जाएगा। सभी चिकित्‍सक भारत सरकार के इस अभियान में सहयोग करें।’’

डॉ एसडी ओझा

जिला क्षय रोग अधिका

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.