Policemukhbir.Com
(पीएम) संवाददाता/शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर। स्थानीय बीआरसी परिसर में गुरुवार दोपहर को प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों की बैठक बीएसए राम सिंह की अध्यक्षता में हुई। जिसमें शिक्षकों को कंपोजिट ग्रांट के व्यय करने, पठन पाठन, अभिलेख रख रखाव, भवन मरम्मत आदि की आवश्यक जानकारी व दिशा निर्देश दिये गए। बीएसए ने कहा कि दिखावे के लिए कार्य न उनके सकारात्मक उपलब्धियों की सोच के साथ संकल्पित होकर कार्य करना चाहिए।
दृढ़ इच्छाशक्ति और ईमानदारी से बच्चों के बीच शैक्षणिक माहौल सभी के आपसी सामंजस्य और सहयोग से बनाना होगा। सम्मानित अभिभावकों व जनप्रतिनिधियों के सहयोग से विद्यालयी व्यवस्था को शिक्षक बेहतर बनाने का प्रयास करें। बैठक को संबोधित करते हुए डीसी निर्माण रीतेश श्रीवास्तव ने स्टाक रजिस्टर पर चर्चा करते हुए बताया कि कंपोजिट ग्रांट में स्टाक रजिस्टर का अत्यधिक महत्व है।
रजिस्टर में क्रय की गयी सामग्रियों के खराब होने या नष्ट होने पर रजिस्टर में खारिज किया जाना आवश्यक है। कंपोजिट ग्रांट का जिला और प्रदेश स्तर की टीम द्वारा जांच और समीक्षा होगी। विद्यालय पर एसएमसी की देख रेख में आवश्यकता अनुसार धनराशी खर्च कर कार्य पूरा करें। जिला समन्वयक ने यह भी कहा कि जर्जर भवन में बच्चों को कदापि न बैठाये।
जरूरत के मुताबिक आंशिक मरम्मत फर्श, खिड़की, दरवाजा आदि की मरम्मत कराये। कार्य प्रारम्भ होने के समय और काम होने के पश्चात का फोटो बनवाकर पंजिका में रखें, कुल धनराशि का 10 प्रतिशत धन स्वच्छता पर खर्च होना है, जिसमे डस्टबिन, शीशा, कंघा, नेलकटर आदि जारी सूची अनुसार क्रय कर सुरक्षित ढंग से विद्यालयों में रख कर प्रयोग में लाया जाये।
बैठक समापन पर पूर्व माध्यमिक विद्यालय कपियां खालसा के प्रधानाध्यापक द्वारिका प्रसाद के निधन पर सभी ने शोक व्यक्त किया। इस दौरान खंड शिक्षा अधिकारी रमेश चन्द्र मौर्या, लाल जी यादव, मुस्तन शेरुल्लाह, सुरेंद्र प्रसाद, कृपाशंकर त्रिपाठी, अली हसन, जीत बहादुर चौधरी, अनिरुध्द मौर्या, गायत्री देवी, सावित्री देवी, हाजरा खातून, मनीष सिंह, वीरेंद्र मौर्य, अशोक कुमार, प्रमोद कुमार, पप्पू यादव, विजय बहादुर, अरविन्द दयाल, अमित चौधरी, प्राची त्रिपाठी, प्रीती मिश्र, सुजीत यादव आदि लोग मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.