(पी एम न्यूज रतनपुर) सुनील शर्मा 

यह कैसी विडंबना है की जब किसान के खेत मे फसल तैयार होता है तो अनाज का रेट कम हो जाता है और वही अनाज जब सेठो के गोदाम मे भर जाता है तो अनाज का रेट टाईट हो जाता है एक किसान धूप बरसात व कीडे मकोडो के बीच कडी मश्क्कत के बाद लोगो का निवाला तैयार करता है

आखिर कैसे लगेगी तस्करी पर अंकुश जिम्मेदार अधिकारी क्यो है मौन गेहूं की सिंचाई के बाद किसान अपने खेत में यूरिया खाद डालने के लिए आसपास के साधन सहकारी समितियों पर सुबह 6:00 बजे ही लगा दे रहे है लाइन लाईन लगाने व कड़ी  मशक्कत के बाद भी शाम को खाली हाथ निराश लौट जा रहे हैं किसान अपने घर आखिर इन किसानों के सम्स्या का कैसे होगा निदान आखिर क्या कारण है की लोग चुप है और धडल्ले से हो रही खाद है तस्करी तहसील से लेकर जिले स्तर तक के अधिकारी चुप क्यो बैठ है अधिकारियों की चुप्पी से तो यह प्रतीत हो रहा है की जिम्मेदार लोग ही सीमवर्ती क्षेत्र मे खुलेआम तस्करी करा रहे है तस्करी के इस कार्य मे तस्करों को स्थानीय पुलीस भरपूर सहयोग देती जिसके कारण थाना परसामलिक क्षेत्र मे बिना किसी डर भय के रात हो या दिन हर वक्त चल रहा है तस्करी का कारोबार उपरोक्त थाना क्षेत्र मे खुलेआम धडल्ले से हो रही है यूरिया की तस्करी जब किसानों को नही मिलेगा उचित दाम पर खाद बीज उपकरण व कीटनाशक आदि तो कैसे करेगा किसान अपनी खेती किसानों की समस्या को लोग नही समझ रहे है यही हाल रहा तो एक दिन ऐसा भी आयेगा जब लोग एक एक दाने के लिये हो जायेगे मोहताज आये दिन हमेशा सुनने को मिलता है कि किसान ने आत्महत्या कर लिया इन्ही सब कारणो से ही किसान आत्महत्या करने के लिये मजबूर होे जाता है जब किसान नही रहेगा सुखी तो देश के बडे बडे लोग कैसे जिन्दा रहेगे  की जगह पत्थर खायेंगे 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.