Policemukhbir.Com
(पीएम) संवाददाता महराजगंज/नौतनवां  गावँ में  पुआल जलाने वालों को  जलाने वालों के विरुद्ध विधिक कार्रवाई व जुर्माने की नोटिस SDM द्वारा जारी की जा रही है । क्षेत्र में जॉइन्ट भ्रमण के दौरान लोगों से पराली ना जलाने की अपील की गई ।

पर्यावरण से संबंधित किसी भी कानूनी अधिकार के प्रवर्तन तथा व्यक्तियों एवं सम्पति के नुकसान के लिए सहायता और क्षतिपूर्ति देने या उससे संबंधित या उससे जुड़े मामलों सहित पर्यावरण संरक्षण एवं वनों तथा अन्य प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण से संबंधित मामलों के प्रभावी और सीघ्रगामी निपटारे के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण अधिनियम 2010 के अंतर्गत 18 Oct 2010 को NGT की स्थापना की गई थी ।

यह एक विशिष्ट निकाय है जो बहु-अनुशासनात्मक समस्याओं वाले पर्यावरणीय विवादों को संभालने के लिए आवश्यक विशेषज्ञों द्वारा सुसज्जित है ।दरअसल पराली धान के फसल काटने के बाद बचा बाकी हिस्सा होता है जिसे पुआल कहा जाता है ।

बड़े पैमाने में खेतों में पराली को जलाने से निकलने वाली कार्बन मोनोऑक्साइड और कार्बन डाइऑक्साइड गैसों का ओजोन परत फट रही है इससे अल्ट्रावायलेट किरणें , जो स्किन के लिए घातक सिद्ध हो सकती है । इसके धुँए से आँखों मे जलन , साँस लेने में दिक्कत और फेफड़ों की बीमारियाँ हो सकती है ।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.