राइस मिल संचालक ने फर्जी खाता खोलकर सरकारी रेट पर बेच दिया आढ़तियों का धान

0
26
शिकारपुर स्थित राइस मिल संचालक ने फर्जी खाता खोलकर सरकारी रेट पर बेच दिया आढ़तियों का धान

pm news service

पीएम  न्यूज सर्विस महराजगंज। जिले के शिकारपुर स्थित एक राइस मिल संचालक द्वारा किसानों के नाम फर्जी खाता खोलकर सरकारी धान की खरीददारी करके करोड़ों रूपये का वारा न्यारा किया है। हालांकि  राइस मिल संचालक के एक एजेंट की शिकायत पर पुलिस एवं साइबर सेल ने छापेमारी कर भारी संख्या में चेकबुक, पासबुक, एक्टिवेट सिमकार्ड के अलावा सरकारी क्रय केन्द्रों की मुहर भी बरामद किया है। इससे शासन से लेकर जिला स्तरीय अधिकारियों में हडक़म्प मचा है।
मालूम हो कि शिकारपुर स्थित राइस मिल काफी पुराना है। लिहाजा लोगों का विश्वास भी था। लेकिन राइस मिल मालिक की मौत के बाद इसका वारिश ने जबसे कार्यभार संभाला है तबसे फर्जीवाड़ा ही इसका मूल उद्देश्य हो गया है। बताया जाता है कि राइस मिल संचालक  अपने पास चार पांच आदमी रखकर कार्य कराता है। इन्हीं आदमियों के मिलीभगत से गांवों के किसानों से आधार कार्ड, पैनकार्ड, फोटो लेकर बैंक में खाता खोला गया।
खातों में मोबाइल नम्बर के लिये एक्टिवेट सिम भी खरीदकर खाते में लगाया गया। इसके बाद राइस मिल संचालक द्वारा इन किसानों के खातों से सरकारी धान खरीद के लिये आन लाइन कराया गया। इन किसानों से कहा गया कि हर सीजन दो-दो हजार रूपये मिलेंगे। लेकिन यह किसान नहीं समझ पाये कि हमारे साथ कितना बड़ा धोखा हो रहा है।
यह राइस मिल संचालक ने किसानों के साथ ही सरकार को भी गुमराह किया है। चूंकि राइस मिल संचालक ने सस्ते दर पर धान खरीद कर सरकारी रेट १८६८ रूपये लेने के चक्कर में यह फर्जीवाड़ा किया गया है।
सूत्रों के मुताबिक पोल तब खुला जब राइस मिल संचालक का एजेंट अपने हिस्सा का रकम नहीं पाया तो इसकी सूचना किसी अधिकारी को दिया। अधिकारी के सूचना पर पुलिस एवं साइबर सेल ने राइस मिल पर छापेमारी किया। जहां से मोटी रकम भी बरामद किये जाने की चर्चा है। चूंकि राइस मिल संचालक ने अपने एजेंट को दस हजार रूपये देने को कहा था लेकिन रूपये नहीं मिलने पर उसने राइस मिल संचालक का भण्डा फोड़ दिया।
सूत्र बताते है कि इसकी निष्पक्ष जांच करायी जाय तो बैंक अधिकारियों के साथ ही बड़े रैकेट का खुलासा हो सकता है। चर्चा है कि हजारों की संख्या में फर्जी खाता राइस मिल संचालक द्वारा खोला गया है।
सूत्र बताते है कि ऐसे ही सेमरा चन्द्रौली में ही फर्जीवाड़ा किये जाने का मामला सामने आ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.